की सिफारिश की

प्रसिद्ध टग्स

तब्दील

आज, मुंबई, भारत में , CWT के कार्यकर्ताओं द्वारा , “अमेरिकी एम्बस्स्य” के समान एक बडी भीड वलि रैली हुआ.

आज, 23 दिसंबर को, भारत, मुंबई में “अमेरिकी एम्बस्स्य” के समान, अंतरराष्ट्रीय आंदोलन CWT के कार्यकर्ताओं द्वारा एक बडी भीड वलि रैली चल रही है. इस रैली के प्रतिभागी ने प्रदर्शन किया यह आरोप लगाते हुए कि संयुक्त राज्य अमेरिका के “फेडरल रिजर्व सिस्टम” की सभी प्रणालि अपराधी और डकैती भरी हैं. उन्होंने नव निर्वाचित अध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प के लिए समर्थन भी दिखाया.

लगभग 1000 लोग “फेडरल रिजर्व सिस्टम” के विरोध में एकत्र हुए. जगह की कमी कि वजह से रैली का आयोजन एक बड़े क्षेत्र में किया गया था, और भाषण देने वाले स्पीकर के लिए,मंच भी बनाया गया था. उनके हाथ में झंडे थे, जिसमें आंदोलन CWT के लोगो थे.

रैली के एक आयोजक ने कहा कि,- यह एक संयोग नहीं है कि आज का दिन चुना गय था रैली के लिये. येह दिन चुना गया , क्योंकि 103 साल पहले अमेरिका में “फेडरल रिजर्व सिस्टम” रचा गया था.

रैली के एक सदस्य ने कहा कि, - यह “फेडरल रिजर्व सिस्टम” डॉलर से हमारे भारतीय अर्थव्यवस्था को नष्ट कर देगा. हमे साथ में, इस हरे सांप को मार देना चाहिए और सभी को cryptocurrency का उपयोग करना चाहिए.

यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि रैली उस समय हुई जब Bitcoin अ डॉलर की तुलना में धिक बढ़ी, आज Bitcoin के रेट ने $ 900 पार कर दिया.

लोगों ने कहा कि, “हम नए राष्ट्रपति श्री डोनाल्ड ट्रम्प की नीति का समर्थन करते है, जिन्होंने कहा है कि वे दूसरे देशों के आन्तरिक मामले में दखल नहीं देंगे. हमें अब यकीन है कि भारत के खिलाफ अमेरिकी नीति आक्रामक नहीं होगा”

अपनी बात साबित करने के लिए झंडे पकड़े हुए थे, इन नारों के साथ,- “cryptocurrency के लिए हाँ डॉलर इतिहास के कचरे जाओ”
“संयुक्त राज्य अमेरिका के फेडरल रिजर्व सिस्टम ने सामान्य नागरिकों की आय को प्रभावित नहीं करना चाहिए”
“ट्रम्प आएंगे और सब कुछ सही कर देंगे”, और कई अन्य नारे थे.

रैली के अंत में, सदस्यों ने एक संकल्प लिखा, जिसमें लिखा गया था कि “CWT के सदस्यों त्रुम्प जि का समर्थ करते है, और वे पूरी तरह से “फेडरल रिजर्व सिस्टम” के खिलाफ हैं. अन्य देशों की सरकारों पर दबाव डालना बंद कर देना चाहिए और डॉलर को एक अंतरराष्ट्रीय मुद्रा के रूप में प्रभावित करना रोक दे. फिर से चुनाव की अनुमति न देने की मांग की. उन्होंने यह भी लिखा की टक्कर के साथ मिलकर आतंकवाद के खिलाफ लड़ना चाहिए.” और हर कोई जो उपस्थित थे उन्होंने उस पर हस्ताक्षर किये. CWT के प्रतिनिधिमंडल अमेरिका की एम्बेसी की ओर बडे, जहां उन्होंने हस्ताक्षर किए संकल्प को अमेरिकी एम्बेसी के प्रतिनिधियों को सौंप दिया.

  • 23 दिसंबर 2016 को 6:52:00 अपराह्न MSK
  • 0 टिप्पणी
  • 142 देखा
0 टिप्पणी